Wednesday 12 June 2024 7:52 PM
Samajhitexpressउत्तर प्रदेशजयपुरताजा खबरेंनई दिल्लीबेंगलुरुमध्य प्रदेशराजस्थान

वन्दना सिंह यादव को शैक्षिणिक, सामाजिक व साहित्य क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु सम्मानित किया जाएगा I

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगांवलिया) l  गोपाल किरण समाजसेवी संस्था, ग्वालियर के तत्वाधान में 28 अक्टूबर 2023 को आयोजित होने वाले एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार ब्रिलियंस अवार्ड सेरेमनी का भव्य समारोह बंगलुरु के कार्यक्रम में मुख्य संरक्षक कैलाश चन्द मीणा (IFS), मुख्य अतिथि व वक्ता डॉ० बी.पी. अशोक (IPS), व सूर्यकांत शर्मा होंगे l इनकी गरिमामयी उपस्थिति में वन्दना सिंह यादव को शैक्षिणिक ,सामाजिक व साहित्य क्षेत्र में विशेष योगदान हेतु अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा I

वन्दना सिंह यादव ने बताया कि मेरा नाम वन्दना सिंह यादव है । मैं उत्तर प्रदेश राज्य के बलिया जनपद की निवासी हूं । मेरा जन्म 27 सितंबर 1990 को जिला बलिया (उत्तर प्रदेश) में हुआ । मेरे पिता का नाम श्री रविंद्र नाथ यादव एवं माता का नाम श्रीमती माधुरी यादव है । मेरी शिक्षा M.A, UGC NET(Home Science)2016, Ph.D.(On going) है।मैने लगभग 8 वर्षों तक गृहविज्ञान प्रवक्ता के रूप में अध्ययन-अध्यापन का कार्य किया है । वर्ष 15/07/2014 से 03/01/ 2021 तक गौरीशंकर राय कन्या महाविद्यालय, गौरीशंकर पुरम्, करनई, बलिया (उत्तर प्रदेश), में कुछ वर्षों तक अंशकालीन प्रवक्ता एवं 2018 से 03/01/2021तक अनुमोदित गृहविज्ञान प्रवक्ता के रूप में कार्य किया तदोपरान्त अतिथि सहायक प्रोफेसर के रूप में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय, बलिया (उत्तर प्रदेश) में 04/01/ 2021 से 30/06/2022 तक अध्ययन-अध्यापन का कार्य किया । इसी क्रम में Home science Study Centre (हीरालाल मेमोरियल ट्रस्ट से संबद्ध) में सितंबर 2017 से मार्च 2021 तक गृहविज्ञान विषय से संबंधित प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराने हेतु भी अंशकालिक कोचिंग शिक्षक के रूप में कार्य किया । वर्तमान समय में मेरे द्वारा पीएचडी शोधार्थी के रूप में महाराजा अग्रसेन हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय, उत्तराखंड (पूर्ववर्ती, हिमालयन गढ़वाल विश्वविद्यालय, उत्तराखंड) से गृहविज्ञान (आहार एवं पोषण विज्ञान) विषय में शोध कार्य किया जा रहा है । मेरे शोध कार्य का शीर्षक- “वर्तमान परिदृश्य में मधुमेह की रोकथाम के लिए उपचारात्मक आहार योजना का अध्ययन” करना है । 2019 से मेरे द्वारा निरन्तर इस विषय में शोध कार्य किया जा रहा है इसी सन्दर्भ में अब तक मेरे द्वारा 11 शोध पत्र लिखे गए हैं, जिसमें से 9 शोध पत्र विभिन्न राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर की मान्यताप्राप्त प्रतिष्ठित शोध पत्रिकाओं एवं संपादित पुस्तक में प्रकाशित हो चुके है । शोध पत्र प्रकाशन के अतिरिक्त मेरे द्वारा अलग-अलग विषय पर अब तक 3 अंतर्राष्ट्रीय सेमिनारों में अपना शोध-पत्र प्रस्तुत किया जा चुका है । इस दिशा में आगे भी मेरा शोध कार्य निरंतर जारी है । मैंने अब तक विभिन्न विषयों से संबंधित लगभग 8 कार्यशालाओं में भाग लिया है ।

जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय, बलिया परिसर में सहायक प्रोफेसर (अतिथि) पद पर रहने के दौरान परिसर की साफ-सफाई की जिम्मेदारी पूरी तरह से 19 फरवरी 2022 से 30 जून 2022 तक निभाई, इसी क्रम में 21 जनवरी 2022 को विश्वविद्यालय के तृतीय दीक्षांत समारोह में चित्र प्रदर्शनी समिति के अधीन भी कार्य किया।जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय परिसर के परीक्षा केंद्र पर सहायक प्रोफेसर (अतिथि) के कार्यकाल में नियमित कक्ष निरीक्षक के रूप में कार्य किया । जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय, बलिया परिसर में दिनांक 21-22 दिसम्बर 2022 को स्थापना दिवस के अवसर पर जलपान वितरण की व्यवस्था के तहत भी कार्य किया । विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर (अतिथि) के पद पर रहते हुए रंगोली, पेंटिंग, पोस्टर एवं कार्टून प्रतियोगिता समिति के अंतर्गत आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में भी कार्य किया ।

पुरस्कार एव सम्मान : – कुल संख्या 10

मेरी साहित्यिक चेतना, सारस्वत साधना तथा शिक्षा व सामाजिक क्षेत्र में उल्लेखनीय अवदान के लिए संस्था- वागीश दुबई, यूएई, एसीटी यूनिवर्सल, दुबई यू ए ई, अक्षर वार्ता अंतरराष्ट्रीय शोध पत्रिका, भारत तथा संस्था कृष्ण बसंती, भारत के सहयोग से “सारस्वत सम्मान” पत्र एवं “अंतरराष्ट्रीय शोध /साहित्य उत्कृष्ट अवार्ड 2023″ से अंतर्राष्ट्रीय साहित्य महोत्सव दुबई यू.ए.ई. में सम्मानित किया गया है। इसके अतिरिक्त भी इस वर्ष शिक्षा, शोध एवं समाज कार्य के क्षेत्र में निरंतर उत्कृष्ट कार्य हेतु कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है, जिसमें  1.”भारत शिक्षा सम्मान 2023″, 2.”राष्ट्रीय गौरव पुरस्कार 2023” इंदौर (मध्य प्रदेश) , 3.राष्ट्रीय पुरस्कार “शिक्षक रत्न पुरस्कार 2023” कोलकाता (पश्चिम बंगाल), 4.राष्ट्रीय पुरस्कार “किरण सुपर आयरन लेडी ग्लोबल अचीवर्स अवार्ड 2023” आगरा (उत्तर प्रदेश), 5.राष्ट्रीय पुरस्कार “पंचशील पुरस्कार 2023” बोधगया (बिहार), 6.राष्ट्रीय पुरस्कार “सावित्री बाई फुले गौरव पुरस्कार 2023” चित्तौड़गढ़ (राजस्थान) तथा अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार 7. “कृष्ण बसंती रिसर्च/ लिटरेचर एक्सीलेंस अवार्ड 2023″ उज्जैन (मध्य प्रदेश), 8.”इंटरनेशनल अचीवर अवार्ड 2023″ कोटा (राजस्थान ),9.”अंतरराष्ट्रीय शोध/ साहित्य उत्कृष्ट अवार्ड 2023″ दुबई यू.ए.ई ,10.”सारस्वत सम्मान” दुबई यू.ए.ई.शामिल है ।

संस्था के साथ जुड़ाव देहरादून से हुआ जो आज तक सक्रियता से बना हुआ है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close