Sunday 21 April 2024 7:36 PM
Samajhitexpressजयपुरताजा खबरेंदेशनई दिल्लीभारतराजस्थानराज्य

समाज चिन्तक व युवा समाजसेवी तुलसीदास चिंतामणि ने महासभा के बारे में अपने विचार व्यक्त किये  

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगांवलिया) l समाज चिन्तक व युवा समाजसेवी तुलसीदास चिंतामणि ने अखिल भारतीय रैगर महासभा की कार्यशैली पर अपनी पीड़ा एक लेख के माध्यम से सोशल मीडिया पर व्यक्त की है कि समाज के विकास की बागडोर हम सभी ने बड़े बड़े प्रशासनिक अधिकारियों को महासभा का अध्यक्ष चुनकर दी लेकिन समाज में कोई राजनीतिक चेतना नहीं हो पाई और ना ही धरातल पर कोई ऐतिहासिक काम हो पाया और विकास की आशा में समाज मुकदर्शक बनकर देखता रहा l जबकि हमारा लक्ष्य रैगर समाज को गौरवशाली और समृद्ध बनाना है ।

समाज चिन्तक व युवा समाजसेवी तुलसीदास चिंतामणि ने समाजहित एक्सप्रेस को फोन पर बताया कि त्यागमूर्ति स्वामी आत्माराम लक्ष्य ने रैगर समाज ही नहीं अपितु मानव समाज को सत मार्ग की ओर अग्रसर करने तथा सतत विकास और समरसता पूर्ण सामाजिक व्यवस्था कायम करने में अग्रणी भूमिका निभाई थी । उनके संदेशों का परिपालन समाज में पूर्णतः किया जाना चाहिए था लेकिन उनका अनुसरण नहीं हो पाया ।

चिंतामणि ने आगे कहा कि हम सामाजिक लोग उनके विचारों को जन-जन तक नहीं पहुंचा सके, समाज में जागृति नहीं ला सके और भारत के इस लोकतंत्र् व्यवस्था में हम जीरो के कगार पर पहुंचने की स्थिति में आ चुके हैं l सन 1984 में जरूर एक दीपक की लौ तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय धर्मदास शास्त्री जी के अथक प्रयास से हमें आगे बढाने का प्रयास किया l

समय-समय पर हमारे समाज के महापुरुषों ने समाज सुधार का अभियान चलाकर दिशाहीन समाज को मुख्यधारा में लाने का प्रयास कर अपना जीवन समाज के उद्धार के लिए समर्पण कर हमें आगे बढाने के लिए प्रयास में अपना संपूर्ण जीवन समाज को समर्पित कर स्वर्ग सिधार गए, जैसे धर्मगुरु स्वामी ज्ञान स्वरूप जी महाराज, जिज्ञासु रामानंद जी महाराज, त्यागमूर्ति स्वामी आत्माराम लक्ष्य जी, स्वामी माधवनाथ जी त्रिवेणी, साध्वी बालक दास जी संस्थापक रामदेवरा धर्मशाला राजस्थान एवं रामजन मंडल के संस्थापक स्वामी जीवाराम जी एवं समाज के क्रांतिकारी महान समाजसेवी क्रांतिवीर अजमेर से सुखराज सिंह आर्य (नोगिया) जैसे महान आत्माओं ने रैगर समाज में जन्म लेकर इस समाज को ऊंचाइयों की बुलंदियों पर ले जाने के लिए अपना सम्मुख संपूर्ण जीवन समाज को समर्पण कर दिया, लेकिन समाज ने उनके त्याग का महत्व नहीं समझा और हमारी आने वाली युवा पीढ़ियों को उनके बारें में बताने का प्रयास भी नहीं किया l

सभी रैगर बंधुओं से निवेदन है कि अखिल भारतीय रैगर महासभा के 25 दिसंबर 2022 को राष्ट्रीय अध्यक्ष और मंत्रीमंडल के पदाधिकारियों का चुनाव होने वाले हैं उसमे सोच समझकर ऐसे लोगो को चुनना चाहिए जो समाज के महापुरुषों का सम्मान करने वाला हो, समाज के लोगो के सुख दुख में शामिल होने वाला हो, और राजनीतिक विचारधारा के साथ समाज में नई ऊर्जा का संचार कर अन्याय और अत्याचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाला होना चाहिए l आज तक यह हमारा बड़ा दुर्भाग्य रहा कि समाज का नेतृत्व करने वाले लोग कमजोर नजर आए । हमें निराशा ही हाथ लगी यह सब आपके सामने हुआ है आप सब लोग भली-भांति जानते हैं । चुनाव एक ऐसा अवसर है जिससे समाज में परिवर्तन की लहर लाना ही होगा ।

अब 1 दिसंबर 2022 से अखिल भारतीय रैगर महासभा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारीयो के लिए नामांकन दाखिल किए जाएंगे l पैनल का इंतजार नहीं करें, जो भी चुनाव लड़ने वाले इच्छुक है वह व्यक्ति जोश खरोश के साथ अपना नामांकन दाखिल करें l राष्ट्रीय रैगर चुनाव आपका अपना है, समाज को सही दिशा देने के लिए पहल करें, इच्छुक युवा साथी बढ़ चढ़कर हिस्सा लें । हमें अखिल भारतीय रैगर महासभा में जाना होगा और रैगर समाज की विरासत को पुनः हासिल कर समाज का गौरव बढ़ाना होगा ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close