Sunday 21 April 2024 7:53 PM
Samajhitexpressउत्तर प्रदेशउत्तराखंडजयपुरताजा खबरेंनई दिल्लीराजस्थानशिक्षा

जन-दृष्टि व्यवस्था सुधार मिशन बदायूं (उ.प्र.) के तत्वाधान में राष्ट्रीय उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान समारोह-2023 सम्पन्न

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगांवलिया) l  जन-दृष्टि व्यवस्था सुधार मिशन बदायूं (उ.प्र.) के तत्वाधान में शनिवार 15 जुलाई 2023 को संतपाल सिंह राठौर स्मृति राष्ट्रीय उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान समारोह-2023 के तहत राष्ट्रीय स्तर की एक शैक्षिक संगोष्ठी बदायूं (उ.प्र.) में आयोजित की गई l जिसमे मुख्य अतिथि धर्मेन्द्र कश्यप(सांसद), विशिष्ट अतिथि के रूप में संयुक्त शिक्षा निदेशक युवा कल्याण विभाग डॉ. दिनेश यादव,पूर्व कमिश्नर दिनेश कुमार सिंह मौजूद रहे l कार्यक्रम में उत्तराखंड सहित समस्त भारतवर्ष के प्रत्येक राज्य से आमंत्रित 90 शिक्षक शिक्षिकाओं ने प्रतिभाग किया । कार्यक्रम के आयोजक श्री हरि प्रताप सिंह राठौर ने सुनीता श्रीवास्तव सहित समस्त शिक्षकों को प्रमाणपत्र एवं मोमोटोज भेंट कर सम्मानित किया ।

कार्यक्रम का शुभारंभ अध्यक्ष रामबहादुर पांडेय (शिक्षाविद्), मुख्य अतिथि धर्मेन्द्र कश्यप(सांसद), विशिष्ट अतिथि के रूप में संयुक्त शिक्षा निदेशक युवा कल्याण विभाग डॉ. दिनेश यादव,पूर्व कमिश्नर दिनेश कुमार सिंह ने दीपक प्रज्वलन के साथ किया गया ।

कार्यक्रम में उत्तराखंड का प्रतिनिधित्व कर रही श्रीमती नंदी बहुगुणा और उनकी टीम ने गढ़वाली वंदना और समूह गान प्रस्तुत करके कार्यक्रम प्रारंभ किया l इस अवसर पर टीम उत्तराखंड ने आयोजक मंडल को शाल एवं उत्तराखंडी टोपी भेंट की ।

कार्यक्रम में उत्तराखंड से श्रीमती नंदी बहुगुणा, आचार्य संतोष व्यास, तेज़ोमही बधानी, सरोज बाला सेमवाल,बिशंबरी भट्ट मीना तिवारी सरोजनी रावत, राजीव थपलियाल, रविन्द्र कुमार,जसपाल रावत, विनोद रावत,कमलेश बलूनी ने प्रतिभाग किया । देश भर के समस्त शिक्षकों ने भारत को विश्व गुरु बनाने का संकल्प लिया और कहा कि इसके लिए वे प्रत्येक विद्यालय को संस्कारशाला बनाएंगे ।

कार्यक्रम के आयोजक श्री हरि प्रताप सिंह राठौर ने सुनीता श्रीवास्तव सहित समस्त शिक्षकों को प्रमाणपत्र एवं मोमोटोज भेंट कर सम्मानित किया । अतिथियों ने अपने उद्बोधन में कहा कि उचित शिक्षा और संस्कार से ही राष्ट्र का सर्वांगीण विकास होगा । इसके लिए शिक्षक, अभिभावक और समाज को मिलकर कार्य करना होगा । इसके लिए राष्ट्र निर्माता शिक्षक समाज को उचित सम्मान देना होगा ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close